How To Turn Your जिंदगी में बदलाव From Zero To Hero new moral stories in hindi

How To Turn Your जिंदगी में बदलाव From Zero To Hero new moral stories in hindi


और हम यह सोचते हैं कि और किया ही क्या जा सकता है क्योंकि हमें तो इतनी जल्दी तो सब कुछ बदलना संभव तो नहीं होता है,,आपने देखा होगा कि कभी कभी हमारी जिंदगी मेऐसे अवसर जरूर आते है कि जब हमें अपनी जिंदगी में बुरे हालातों का सामना कर रहे होते हैं तो
 How To Turn Your जिंदगी में बदलाव From Zero To Hero new moral stories in hindi

और हमें लगता है कि क्या पता मेरा या छोटा सा कदम यह बदलाव हमारे जिंदगी में कुछ क्रांति को लेकर के आएगा भी या नहीं,,,,,

 

विश्वास की शक्ति Simple Guide moral story for kids in hindi 

लेकिन मैं तो आपको बता दूंगा हर चीज या बदलाव की शुरुआत तो बहुत ही बेसिक से ढंग से होती है या की जाती है।

और कई बार तो सफलता हमसे बस थोड़ी कदम दूर पर ही होती है कि हम अक्सर हार मान लेते हैं जबकि उस समय हमें अपनी क्षमताओं पर भरोसा रख कर के जो काम कर रहे हैं उसमें कोई भी बदलाव छोटा नहीं होता है।

जबकि वह तो हमारी जिंदगी में हमारे लिए 1 मील का पत्थर साबित हो सकता था इसलिए हमें अपने अपनी जिंदगी में बदलाव करने से डरना नहीं चाहिए।

also read : संतोष का धन stories with moral in hindi

तो चलिए मैं आपको एक कहानी पढ़ते हैं और इसके द्वारा समझने की कोशिश करते हैं कि आसान तरीके से भी छोटा सा बदलाव किस कदर हमारे लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है।

एक बार एक लड़का था वह हर रोज सुबह सुबह दौड़ने के लिए जाया करता था।

और जब वह सुबह से दौड़ने जाता था तो आते जाते वह एक बड़ी सी महिला को हर रोज देखता था।

और अघोरी महिला तालाब के किनारे में छोटे-छोटे कछुआ के पीठ को साफ किया करती थी तो,,,,

1 दिन उस लड़के ने उस बूढ़ी महिला के पास जा कर के उसके छोटे-छोटे कस्बों के बीच को साफ करने का कारण जानने का सोचा।

जब वह लड़का उस महिला के पास जाता है और उसको नमस्ते करके बोलता है कि “नमस्ते आंटी”,,,

मैं आपको हर रोज इन छोटे छोटे कछुए की पीठ को साफ करते हुए देखता हूं, तो मैं आपसे यह जानना चाहता हूं कि आप ऐसा किस वजह से करते हो?

तो जब उसे बुरी सी महिला मैं उस लड़के को देखती है और इस पर लड़के को वह जवाब देती है कि,

“मैं तो हर रविवार को यहां आती हूं और इन छोटे-छोटे कस्बों के पेट को साफ करते हुए मुझे सुख और शांति का अनुभव होता है।

इसलिए मैंने छोटे छोटे कछुए को पीठ को साफ किया करती हूं।

और क्योंकि इनके पीठ पर कवच होता है उस पर तो इनका कचरा जमा हो जाने के कारण इनको गर्मी पैदा करने की क्षमता बहुत ही कम हो जाती है,

तो इसलिए इन कछुए को तैरने में मुश्किलों का बहुत ही ज्यादा सामना करना पड़ता है।

और अगर इसी तरह कुछ समय के बाद इन पर कछुआ के कवच पर कचरा जमा होते होते इनका कवच भी कमजोर हो जाता है इसलिए मैं इन कछुआ की कवच को साफ किया करती हूं।

जब बूढ़ी महिला की बात सुन कर के वह लड़का बहुत ही ज्यादा हैरान हो जाता है और उसने फिर से एक बार पहचाना सा सवाल करता है और बोलता है।

“बेशक आप बहुत अच्छा काम कर रहे हो लेकिन फिर भी आंटी जी एक बात ज़रा आप सोचिए कि इन जैसे पता नहीं कितने और कछुए होंगे जो इससे भी ज्यादा बुरी हालत में हैं।

जबकि आप सभी के लिए तो यह काम नहीं कर सकते ना तो उनका क्या क्योंकि आपके अकेले के बदलने से तो कोई बड़ा बदलाव नहीं आएगा ना ।

तो लड़के के इस सवाल पर वह बूढ़ी महिला बहुत ही शांति से जवाब देती है कि

मेरा यह काम से दुनिया में कोई बड़ा बदलाव कोई बड़ा बदलाव नहीं आएगा लेकिन जरा तुम सोचो इस एक कछुए की जिंदगी में तो बदलाव आएगा ही ना।

तो क्यों नहीं हमें छोटे बदलाव से ही शुरुआत शुरू करना चाहिए।

 

अगर आपको How To Turn Your जिंदगी में बदलाव From Zero To Hero new moral stories in hindi आपको अच्छी लेगी हो आप हमें कमेंट के मध्यम से जरूर बताये  Thank You 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *