संघर्ष से सफलता की कहानी Sangharsh Se Safalta Ki Kahani

संघर्ष से सफलता की कहानी

संघर्ष से सफलता की कहानी –   हमारे जीवन में सोच ही सफलता की सर्वोत्तम सीडी है, आखिरकार जो हम सोचते हैं स्वप्न देखते हैं या विचार करते हैं हमें वही पाते है।

अगर कोई व्यक्ति अपने लक्ष्य को निर्धारित कर लेता है और एकाग्रता और संपूर्ण समर्पण करके कोई भी कार्य करता है तो वह व्यक्ति असंभव कार्य संभव कर सकता है।

आज विज्ञान इतनी तरक्की कर ली की वह दावा करता है कि मनोवैज्ञानिक के अनुसार कोई व्यक्ति किसी भी चीज के बारे में सोचता है तो वह उसके पास अपने आप आ जाते हैं।

कई लोगों की यह मान्यता है कि सफलता केवल उन्हीं व्यक्तियों को मिलती है जो अत्यधिक परिश्रम और लंबे समय तक लगन से कार्य को करते हैं।

जबकि यह प्रकाशित किताब यह सिद्ध करती है कि सफलता मानसिक अवस्था से लक्ष्य की निश्चयतता से और सकारात्मक सोच से शुरू होती है भले ही मेहनत हो या ना हो।

कोई भी कार्य सफल बनाने के लिए उसमें सकारात्मक सोच जरूर होना चाहिए, इस संसार में सफलता का प्रतिशत और असफलता से कई ज्यादा है।

इसलिए कई बार हम अपने और असफलता के नजरिए से कुछ समझ नहीं पाते हैं।संघर्ष से सफलता की कहानी

   पढ़े : मुश्किलों से शिखे moral stories in hindi

आइए हम इसे एक कहानी के जरिए समझते हैं-संघर्ष से सफलता की कहानी इन 2020 

किसी गांव में दो मित्र रहते थे जो जूते की फैक्ट्री मैं काम किया करते थे। कंपनी के द्वारा जूते बनाए जाते थे तथा उनका कार्य था कि उसे उचित मूल्य पर बेचना। एक बार की बात है उनके मालिक ने उन्हें ऐसे गांव में भेजा जहां कोई जूते चप्पल नहीं पहनते थे।

पहला लड़का जब गांव जाता है तो वह लोगों को देखकर हैरान हो जाता है की यहां तो कोई जूते चप्पल पहनते ही नहीं है भला में कैसे बेचूंगा। यही सोचते हुए वह वापस आ जाता है।

अंत में दूसरा मित्र उसी गांव जाता है और वहां के लोगों को देखकर काफी खुश हो जाता है कि यहां तो किसी के पास जूते चप्पल है ही नहीं आज तो मेरा सारे जूते चप्पल बिक जाऐगें। यहां तो मेरे बहुत सारे ग्राहक हैं।

बस यही सोच होता है सकारात्मक और नकारात्मक सोच मे। दुनिया में कोई भी काम और असंभव नहीं होता अगर सकारात्मक सोच रहे तो। कई बार हम लोग अपने सोच के कारण सफलता के ग्राफ को और असफलता में परिवर्तित कर देते हैं।

सफल सोच की शक्ति इतनी शक्तिशाली होती है कि अगर हम किसी भी विषम से विषम संकट में आ जाते हैं फिर भी उस समय हमारी सोच अगर सकारात्मक हो तो हम हंसते हंसते उसे हम सफल बना सकते हैं।

किसी भी व्यक्ति को अपने सोच पर पूरी तरह से नियंत्रण रहता है। किस परिस्थिति में क्या सोचना है वह उस व्यक्ति पर निर्भर करता हूं। हमारे विचार और भावनाएं इस बात को तय करती है कि हमारा अगला कदम क्या होगा ? इसके फलस्वरूप हमें परिणाम मिलता है।

इनकी शुरुआत अपने सोच से उत्पन्न होती है जैसे ही हम अपने सफल सोच को बनाते हैं तो वह तो वह एक सफल दायरे में ज्यादा प्रभाव कारी सोच बन जाती है इसके परिणाम स्वरूप हम उचित सफलता की ओर बढ़ने लगते हैं।

भगवान बुध का कहना है कि आज हम जो कुछ भी है हमारे कल के विचारों और निर्णयों के कारण है।संघर्ष से सफलता की कहानी  संघर्ष से सफलता की कहानी

एक तरफ से माना जाए तो विचार ही सोच है। और इसी के बदौलत कोई भी व्यक्ति निर्णय लेता है इससे हमें यह ज्ञात होता है कि हम सफल या असफल अपनी सोच के कारण होते हैं।

हम इंसान के सोचने के तरीकों के हिसाब से दो भागों में बांट सकते हैं- पहले भागों में वह व्यक्ति जो समूह में रहते हैं, ज्यादातर वक्त वह शिकायतों में बिता देते हैं । वे लोग सफल होने से ज्यादा और असफल होने की सोचते हैं। वे लोग कुछ भी नया काम करने से डरते हैं ऐसे लोग रास्ते में आने वाली मुश्किलों से डर कर घबरा जाते हैं और कुछ नहीं कर पाते हैं।…

ये लोग ना ही कोई सपना देखते हैं और ना ही कोई बड़ा कार्य की शुरुआत करते हैं। उन लोगों के लिए बस वैसा ही चलने देते हैं ज्यादा परिवर्तन अपने जीवन में नहीं करते हैं।

दूसरे भागों में वह व्यक्ति जो हर काम के बारे में रचनात्मक तरीकों से सोचकर करते हैं और बड़े-बड़े सपने रखते हैं और उनका विश्वास करते हुए कार्य करते हैं।

इस प्रकार के लोक शिकायत और असफलता से बहुत दूर रहते हैं। इस तरह वे केवल सफलता के बारे में सोचते हैं

और अपने रास्ते में मुसीबत और बाधाओं को सरलता से दूर कर देते हैं । वह अपनी छोटी-छोटी सोचो को भी ज्यादा महत्व देते हैं ऐसे लोग दुनिया में सफल होते हैं

हमारा कहना है कि अगर आप पहले वाले भागो मैं है तो काफी हद तक आप अपनी जिंदगी को बदलना चाहेंतें होंगे।

और आप जानते ही होंगे कि हम जैसा ही सोचते हैं वैसा ही बन जाते हैं और यह सोच हमारे माहौल के हिसाब से काम करते हैं।

इसलिए हम समूह का हिस्सा बन जाते हैं इंसान में एक ऐसा गुण है जो कि यह है कि हम कभी भी अपने सोच के हिसाब से कुछ भी बदल सकते हैं

अगर आप समूह से निकलकर सफलता को प्राप्त करना चाहते हैं और एक खुशहाल जीवन व्यतीत करना चाहते हैं तो आपको अपने सफल सोच का स्वामी बनना पड़ेगा।

इस संसार में एक निश्चित सचते या करते है हमें बस उतना ही प्राप्त होता है। और इसी कारण से हम सकारात्मक सोच रख कर ही सफलता की सीढ़ियां चढ़ सकते हैं

इस बात को सिद्ध करने के लिए मैं आपको एक बाप और बेटे की प्रसिद्ध कहानी सुनाता हूं,इस कहानी के जरिए आप सभी के मस्तिक समय और असफलता की सोच को निकालकर सफलता की सोच डालने की मदद करूंगा।

:- एक छोटा सा लड़का अपने पिता के साथ पिकनिक बनाने के लिए जाता है उस समय बच्चे की गर्मी की छुट्टी थी इस कारण से उसके पिता ने सोचा क्यों ना कुछ समय प्रकृति के नजदीक समय बिताते हैं।

यही सोचते हुए उन्हें पहाङो पर सामान के साथ पिता और पुत्र दोनों निकल पड़े। वहां का नजारा बहुत ही शानदार था तथा चारों ओर खुला आसमान और हरियाली ही हरियाली थी।

बच्चा एक छोटे से पहाङो पर चढ़ने का प्रयत्न करने लगा। जैसे ही वह चढ़ने का प्रयास करने लगा उसका पैर फिसला और पैर में चोट लग गई और उसके मुंह से निकला -आह़ यह आवाज उसे गूंज की वजह से उसे ही पुनः सुनाई देता है -आह़ बच्चा आश्चर्यचकित होकर बोलता है कि यह कौन बोला।

फिर सेवा जोर से आवाज देता है कौन हो तुम? फिर बच्चे को वही आवाज पुण: सुनाई देती है कि कौन हो तुम? इस प्रकार वह कई बार चिल्लाते हुए कहता कौन हो तुम लेकिन उसकी आवाज उसे ही सुनाई देने लगती है। अंत में बच्चा अपने पिता से पूछता है दोस्त के पिता प्यार से उसके सर पर हाथ फेरते हुए जोर से चिल्लाए-

      

तुम कायर हो? वैसे आवाज सुनाई देती है। तुम कायर हो पिता मुस्कुरा कर जोर से बोलता है तुम साहसी और विजेता हो फिर से उन्हें यही आवाज सुनाई देती है की तुम साहसी और विजेता हो।

पिता बच्चे को समझाते हैं की आवाज़ तुम्हारी है जो गूंज की वजह से वापस टकराकर तुम्हें ही सुनाई देती है यही सफलता का सिद्धांत है

अगर हम सफलता के प्रति जागरूक है तो यह जीवन रूपी गूंज से टकराकर वापस हमें सफलता मिलेगी। और इसी प्रकार का सिद्धांत और सफलता पर लागू होता है ।

अर्थात सफलता उन व्यक्ति को ही मिलती है जो की सफलता के बारे में जानते होंगे वरना असफलता उनके हाथ लगती है, इससे हमें ज्ञात होता है कि सफल या असफल होना हमारे मानसिक अवस्था पर निर्भर रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *